Wednesday, January 6, 2010

कुछ कहना चाहती थी
मगर लफ्ज़ ज़हन में ही कैद रह गए
तुम्हारी ख़ुशी और गम्म का रस लेना चाहती थी
किन्तु रस भोगने के लिए अपने आइने समान ह्रदय के टुकड़े समेट ना सकी


उस गुपत्गु में दिल्ले बय्याँ करना चाहती थी
मगर तुम्हारी आँखों के नूर पर परछाई नहीं देख पाती 
उन कमज़ोर लम्हों में एक सहारे की तालाश थी
लेकिन जिसे हम सहारा समझ बैठे वो एक परछाई निकली


चित के प्रेत दिल और दिमाग पर हावी होने लगे
ख्वाब और नींद भी साथ छोड़ गए
अपने अक्स से नफरत सी होनी लगी थी
खोखली ही सही, मगर तुम्हरी हंसी में हम भी हँसे


तुम्हारे क़दमों से कदम मिला न सके
काश तुमने एक बार मुड के देखा होता
तुम ना सही तुम्हारे साए से ही हम बतिया लिया करते थे  


     Image sourced from deviantART   

A conversation in the dead of night with a friend inspired this poem.                       

                                                

3 comments:

sobhit said...

hindi kavita loaded wid heavy emotions.... u sure getin bttr n more intense... d creatv streak sure is bulidin on... only i hope n like 2blv dat des intense emotions dat shw in ur poem r not totaly ur own... well guess wnt commnt on dat much.. nehw nice read ... only am not hvin d calibre 2 jugde work of dis intensity.. i'll leave it 2u n odr experts... keep bloggin

Parul said...

badia kavita, expressed so beautifully :) As i had told u yesterday, its getting a tough task for me to comment on such posts, its implicit that its lovely. Baki il try my level best.

vikas said...

one of the most amazing and beautifully written poems i ever read....
this is sure one of the best as it is kind of heart thrown open on paper in form of words.....
"किन्तु रस भोगने के लिए अपने आइने समान ह्रदय के टुकड़े समेट ना सकी" - the line i loved the most.
and yes,you sure are getting close to perfection,as everyone pointed.
and yeah,will keep it close to my heart always....it will really remind me of something :)